Sunday, June 23, 2024
ADVTspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homechiniपारंपरिक तरीकों को प्रौद्योगिकी के साथ एकीकृत करने की है जरूरत

पारंपरिक तरीकों को प्रौद्योगिकी के साथ एकीकृत करने की है जरूरत

चीनी उद्योग वर्तमान में कई समस्याओं का सामना कर रहा है। इस चीनी सीजन में एक नये प्रकार की समस्या देखने को मिली है। गन्ने की फसल का सटीक अनुमान इस बार सही नहीं साबित हुआ है और इसमें दो-तीन बार बदलाव हुआ और वह भी बड़ा बदलाव हुआ। डीसीएम श्रीराम लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक और सीईओ (चीनी व्यवसाय) और उत्तर प्रदेश शुगर मिल्स एसोसिएशन (यूपीएसएमए) के अध्यक्ष रोशन लाल टामक ने एक इंटरव्यू में कहा कि गन्ना उत्पादन में स्थिरता और मौसम संबंधी मुद्दों के कारण भारी भिन्नता है परिणामस्वरूप ऐसी स्थिति में हितधारकों के लिए उचित योजना बनाने में चुनौतियां आ रही हैं। गन्ना उत्पादन के आकलन के लिए किसी प्रमाणित तकनीक के अभाव के कारण यह और भी जटिल हो जाता है। दूसरी चुनौती इस क्षेत्र की अनुमानित आर्थिक व्यवहार्यता है, क्योंकि गन्ने की कीमत और चीनी की कीमत के बीच कोई संबंध नहीं है। गन्ने की कीमत ऊंची है जबकि चीनी की कीमत कम है

उन्होेंने कहा कि चीनी उत्पादन का सटीक अनुमान सुनिश्चित करने के लिए विस्तार से समझने की जरूरत है। चीनी उत्पादन के लिए मोटे तौर पर ७ कारक प्रमुख हैं- गन्ना क्षेत्र, विविधता अनुसार क्षेत्र, गन्ने की उपज, सुक्रोज सामग्री, खांडसारी/गुड़ की ओर मोड़ना, बीज और विविध प्रयोजनों के लिए उपयोग तथा एथेनॉल की ओर मोड़ना आदि। इन कारकों में से, कोई भी गन्ने के क्षेत्रफल का उचित अनुमान लगा सकता है क्योंकि मिलों द्वारा भौतिक सर्वेक्षण किया जा रहा है और कुछ राज्यों में सहकारी गन्ना संघ के कर्मचारी संयुक्त रूप से सर्वेक्षण कर रहे हैं। अब उत्तर प्रदेश जैसे कई राज्यों में भूखंडों की जियो-फेंसिंग की जा रही है, इसलिए इस तकनीक के माध्यम से उचित स्तर की सटीकता प्राप्त की जा सकती है। बीज और विविध प्रयोजनों के लिए खपत लगभग मानक है क्योंकि इसकी गणना वार्षिक आधार पर पौधे के फसल क्षेत्र के आधार पर की जा सकती है। किसी भी मामले में एथेनॉल की ओर डायवर्सन अच्छी तरह से किया गया है। हालाँकि, इनपुट और आउटपुट की सही संख्या प्राप्त करने के लिए खांडसारी इकाइयों को नियंत्रण के दायरे में लाने की आवश्यकता है। मुख्य कारक सुक्रोज सामग्री और गन्ना उत्पादकता हैं, जिन्हें अल्पकालिक आधार पर पारंपरिक तरीकों और दीर्घकालिक आधार पर नए जमाने की प्रौद्योगिकियों दोनों का उपयोग करके निपटा जा सकता है।

 

पारंपरिक तरीका

हमारे देश को १५ कृषि-जलवायु क्षेत्रों में वर्गीकृत किया गया है, जिन्हें कृषि प्रथाओं का मार्गदर्शन करने के लिए जलवायु, मिट्टी और स्थलाकृति में विशिष्ट स्थानीय विविधताओं को ध्यान में रखते हुए ७२ अधिक सजातीय उप-क्षेत्रों में विभाजित किया गया है। प्रमुख गन्ना उत्पादक क्षेत्रों के आधार पर, ५ कृषि-जलवायु क्षेत्र हैं। पहले कदम के रूप में, इन ७२ उप-क्षेत्रों के आधार पर गन्ना उगाने वाले भूगोल का मानचित्रण किया जा सकता है। मौसम के मापदंडों में भारी भिन्नता को देखते हुए, विशेष रूप से प्रायद्वीपीय क्षेत्र में विशेष रूप से टीएन और दक्षिणी कर्नाटक, गुजरात और उत्तरी महाराष्ट्र, उत्तरी कर्नाटक और दक्षिणी महाराष्ट्र के क्षेत्रों में, उपक्षेत्रों की प्रासंगिकता महत्वपूर्ण है। फसल की उपज का पता लगाने के लिए मिल योग्य गन्ने, ऊंचाई, परिधि आदि जैसे विकास अवलोकनों को रिकॉर्ड करने के लिए उचित आकार, फसल प्रकार और विविधता के फैक्ट्री फार्म, अनुसंधान फार्म आदि सहित इन उप-क्षेत्रों में स्थानों को शॉर्टलिस्ट किया जाना चाहिए। इसके अलावा हमें मानक संचालन प्रक्रियाओं के अनुसार चीनी रिकवरी के अनुमान या चीनी रिकवरी के अनुमान के संबंध में गन्ने की गुणवत्ता के बारे में एक विचार प्राप्त करने के लिए विभिन्न मापदंडों जैसे ब्रिक्स, शुद्धता, फाइबर इत्यादि के लिए गन्ने के रस का विश्लेषण करने की आवश्यकता है। फसल जीवन चक्र के दौरान विकास विशेषताओं और रस विश्लेषण परिणाम दोनों को निश्चित आवृत्ति पर दर्ज किया जाना चाहिए। विभिन्न पहचाने गए स्थानों में उत्पादन के ऐतिहासिक डेटा के साथ इन डेटा बिंदुओं की क्रॉस-रेफरेंसिंग/तुलना और साल-दर-साल आधार पर डेटा को सारणीबद्ध करना उत्पादन अनुमान के लिए वैज्ञानिक आधार हो सकता है। इस प्रणाली को परिचालन रूप से प्रभावी बनाने के लिए एक उचित प्रणाली स्थापित करने की आवश्यकता है और आदर्श रूप से मानकीकरण सुनिश्चित करने के लिए इसे केंद्रीय रूप से समन्वित किया जाना चाहिए।

नए युग की प्रौद्योगिकियां एआई-एमएल

किसान द्वारा उगाए जा रहे क्षेत्र को सटीक रूप से पकड़ने के लिए जिओ मैपिंग, एआई और छवि प्रसंस्करण का उपयोग करके खेत की सीमाओं की सटीकता जाना जा सकता है। इसके अलावा, पौधों की वृद्धि को लगातार मापने के लिए रिमोट सेंसिंग/सैटेलाइट इमेजरी का उपयोग किया जा सकता है

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com