Sunday, June 23, 2024
ADVTspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomeEthanolइंडोनेशिया एथेनॉल के लिए करेगा सीविड उपयोग

इंडोनेशिया एथेनॉल के लिए करेगा सीविड उपयोग

इंडोनेशियाई सरकार बायोएथेनॉल के विकास में तेजी लाने के लिए पापुआ क्षेत्र में लगभग दो मिलियन हेक्टेयर गन्ना रोपण का उपयोग करने का लक्ष्य बना रही है। इंडोनेशियाई समाचार एजेंसी (अंतारा) के हवाले से समुद्री मामलों और निवेश के समन्वय मंत्री लुहुत पंडजैतन ने कहा, बायोएथेनॉल बनाने के लिए हमारी योजना मक्का, गन्ना या यहां तक कि सीविड का उपयोग करने की है। हमारे पास बहुत सारे विकल्प हैं।

इंडोनेशियाई सरकार ने दक्षिण पापुआ प्रांत के मेरौके जिले में चीनी और बायोएथेनॉल आत्मनिर्भरता के लिए टास्क फोर्स का गठन किया है। लुहुत पंडजैतन ने कहा कि सरकार वर्तमान में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए बायोएथेनॉल ईंधन को समर्पित सब्सिडी की दर की गणना करने की प्रक्रिया में है।  डजैतन ने इस बात पर जोर दिया कि ईंधन के रूप में बायोएथेनॉल का उपयोग देश में वायु प्रदूषण के समाधान के लिए त्वरित कदमों में से एक है।

मंत्री ने ‘जकार्ता फ्यूचर फोरम: ब्लू होराइजन्स, ग्रीन ग्रोथ’ नामक एक कार्यक्रम में बोलते हुए जीवाश्म-आधारित ईंधन को बायोएथेनॉल से बदलने की सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराया। पंडजैतन ने यह भी टिप्पणी की कि सरकार ने राज्य के स्वामित्व वाली तेल और गैस कंपनी पर्टेमिना द्वारा पेश किए जाने वाले गैसोलीन के एक प्रकार, पर्टालाइट के साथ एथेनॉल के मिश्रण की संभावना से इनकार नहीं किया है।

अमेरिका एथेनॉल सम्मिश्रण में करेगा मदद

अमेरिका के एक कृषि व्यवसाय व्यापार मिशन ने प्रस्ताव दिया है कि भारत २०२५ तक अपने एथेनॉल मिश्रण लक्ष्य को पूरा करने के लिए एथेनॉल और फीडस्टॉक के लिए मक्का का आयात करे। क्योंकि भारत ने हरित ईंधन के उत्पादन के लिए चीनी के उपयोग को सीमित कर दिया है। इकनोमिक टाइम्स के मुताबिक नई दिल्ली में कृषि व्यवसाय व्यापार मिशन का नेतृत्व करने वाले संयुक्त राज्य अमेरिका के कृषि विभाग के अवर सचिव एलेक्सिस टेलर ने कहा कि एथेनॉल उत्पादन बढ़ाने में भारत की प्रगति का समर्थन करने का यह एक बड़ा अवसर है। उन्होंने कृषि, विदेश और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालयों के अधिकारियों से मुलाकात की है। भारत का २०२५ तक २० प्रतिशत एथेनॉल सम्मिश्रण का लक्ष्य है। अमेरिका एथेनॉल के सबसे बड़े उत्पादकों और उपभोक्ताओं में से एक है। टेलर ने सुझाव दिया कि स्टॉक फ़ीड के लिए एथेनॉल और मकई का आयात भारत को एथेनॉल उत्पादन के लिए निवेश जुटाने में मदद कर सकता है। भारत एथेनॉल उत्पादन के लिए चीनी के विकल्प के रूप में मक्के के उपयोग को बढ़ावा दे रहा है।

ब्राजील में रिकॉर्ड चीनी उत्पादन का है अनुमान

सरकारी एजेंसी कोनाब ने २५ अप्रैल को कहा कि ब्राजील की नई गन्ने की फसल पिछले रिकॉर्ड की तुलना में थोड़ी ही छोटी होगी और चीनी उत्पादन अब तक के उच्चतम स्तर पर पहुंच जाएगा क्योंकि अधिक रोपण आंशिक रूप से कृषि उपज में गिरावट की भरपाई करेगा। कोनाब ने ब्राजील की २०२४-२५ में कुल गन्ने की फसल ६८५.८६ मिलियन मीट्रिक टन होने का अनुमान लगाया, जो २०२३-२४ की तुलना में ३.८ प्रतिशत कम है। रोपण क्षेत्र ४.१ प्रतिशत की वृद्धि के साथ ८.६७ मिलियन हेक्टेयर होने का परिणाम है। दुनिया के सबसे बड़े उत्पादक और चीनी के निर्यातक ब्राजील में चीनी उत्पादन कोनाब द्वारा नए सीज़न में रिकॉर्ड ४६.२९ मिलियन टन या पिछले चक्र से १.३ प्रतिशत अधिक होने का अनुमान लगाया गया है, जो कि पिछला रिकॉर्ड भी था।

थाईलैंड के गन्ना उत्पादन में आयी भारी गिरावट

गन्ना और चीनी बोर्ड (ओसीएसबी) थाईलैंड के मुताबिक गंभीर सूखे के कारण वर्ष २०२३- २४ की गन्ना उत्पादन में गिरावट आई है। उत्पादन में गिरावट से वैश्विक बाजार में चीनी की आपूर्ति प्रभावित हो सकती है क्योंकि ब्राजील के बाद थाईलैंड दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा चीनी निर्यातक है। ओसीएसबी में किसान संघ के प्रतिनिधि वेरासाक क्वानमुआंग ने कहा कि २०२३-२०२४ में थाईलैंड की गन्ने की फसल गिरकर ८२.२ मिलियन टन हो गई, जो पिछली फसल के उत्पादन की तुलना में ११.७ मिलियन टन कम है। सूखे के कारण पानी की कमी हो गई, जिससे थाईलैंड में गन्ने की खेती को झटका लगा। ओसीएसबी के अनुसार वर्ष २०२३-२४ की फसल में किसानों ने चीनी मिलों में पेराई के लिए कुल ८२.२ मिलियन टन गन्ना पहुंचाया, जिसमें ७० प्रतिशत ताजा गन्ना और शेष जला हुआ गन्ना था। वर्ष २०२३-२४ की फसल में लगभग ५७ चीनी मिलों ने ८.७७ मिलियन टन चीनी और ३.५५ टन गुड़ का उत्पादन किया। प्रति टन गन्ने में चीनी की मात्रा १०७ किलोग्राम थी, जबकि वाणिज्यिक गन्ना चीनी की मिठास का स्तर १२.३५ था। ओसीएसबी ने कहा कि जब वैश्विक अर्थव्यवस्था सुस्त थी तथा चीनी की मांग कम होने के कारण ब्राजील और भारत से गन्ने की अधिक आपूर्ति के बाद वैश्विक चीनी की कीमतें २५ अमेरिकी सेंट प्रति पाउंड से घटकर १९ अमेरिकी सेंट प्रति पाउंड हो गई हैं। यह अनुमान लगाया गया है कि २०२४-२५ की फसल के लिए गन्ने का उत्पादन बढ़ेगा क्योंकि किसानों द्वारा ऊंची कीमतों के कारण कसावा से गन्ने की खेती की ओर रुख करने की संभावना है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com