Tuesday, July 23, 2024
ADVTspot_imgspot_imgspot_imgspot_img
HomePrintगन्ना किसानों की सुरक्षा के लिए चीनी एमएसपी में हो वृद्धि

गन्ना किसानों की सुरक्षा के लिए चीनी एमएसपी में हो वृद्धि

चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोतरी की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। भारत के सबसे बड़े चीनी निर्माताओ तरूण साहनी में से एक त्रिवेणी इंजीनियरिंग एंड इंडस्ट्रीज लिमिटेड के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, तरूण साहनी ने चीनी एमएरापी में वृद्धि की वकालत की है। एक बातचीत में श्री साहनी ने कहा है कि चीनी एमएसपी में वृद्धि उद्योग की स्थिरता के लिए काफी महत्वपूर्ण है। एमएसपी 2019 से अपरिवर्तित बनी हुई है जबकि इनपुट लागत, विशेष रूप से गन्ने की उचित और लाभकारी कीमत (एफआरपी) में काफी वृद्धि हुई ई है, जो अब ₹340 प्रति क्विंटल है। चीनी एमएसपी में वृद्धि का समर्थन करते हुए, उन्होंने बताया कि यह विसंगति चीनी उद्योग पर काफी बोझ डाल रही है, लाभप्रदता कम कर रही है और किसानों को भुगतान करने की क्षमता में बाधा डाल रही है। उन्होंने आगे कहा कि बढ़ती चीनी खपत और उच्च घरेलू उत्पादन अनुमानों को देखते हुए एमएसपी को एफआरपी के साथ संरेखित करना जरूरी है। साहनी ने निष्कर्ष निकाला, यह समायोजन उद्योग को स्थिर करेगा, किसानों के हितों की रक्षा करेगा और स्थिर चीनी आपूर्ति सुनिश्चित करेगा, जिससे अंततः उपभोक्ताओं को लाभ होगा। 2019 में चीनी का एमएसपी बढ़ाकर 31 रुपये प्रति किलो कर दिया गया। उस

समय देश में एफआरपी 275 रुपये प्रति क्विंटल थी। तब से, एफआरपी में लगभग 65 रुपये प्रति क्विंटल (340 रुपये प्रति क्विंटल की नवीनतम वृद्धि सहित) की वृद्धि देखी गई है। जबकि एमएसपी 31 रुपये प्रति किलो पर स्थिर बना हुआ है। चूंकि एमएसपी का निर्धारण एफआरपी और अन्य कारकों को ध्यान में रखकर किया जाता है, इसलिए चीनी मिलें उत्पादन लागत में वृद्धि को कम करने के लिए एमएसपी में तत्काल वृद्धि की मांग कर रही है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com