चीनी उत्पादन एक साल पहले की तुलना में 26 फीसदी तक घटा |

v 34 512

Bhaskar   – Jan 18, 2020 – निजी चीनी मिलों के संगठन भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) ने शुक्रवार को कहा कि चालू विपणन वर्ष में 15 जनवरी तक देश का चीनी उत्पादन एक करोड़ 8.8 लाख टन था। यह पिछले साल इसी अवधि से 26.15 प्रतिशत कम है। चीनी विपणन वर्ष 2018-19 (अक्टूबर-सितंबर) में 15 जनवरी तक चीनी उत्पादन एक करोड़ 47.4 लाख टन था।

निजी चीनी मिलों के संगठन भारतीय चीनी मिल संघ (इस्मा) ने शुक्रवार को कहा कि चालू विपणन वर्ष में 15 जनवरी तक देश का चीनी उत्पादन एक करोड़ 8.8 लाख टन था। यह पिछले साल इसी अवधि से 26.15 प्रतिशत कम है। चीनी विपणन वर्ष 2018-19 (अक्टूबर-सितंबर) में 15 जनवरी तक चीनी उत्पादन एक करोड़ 47.4 लाख टन था।

अपने पहले अनुमान में, इस्मा ने चालू वर्ष में कुल चीनी उत्पादन 2.2 करोड़ टन रहने का अनुमान लगाया है। वर्ष 2018-19 में तीन करोड़ 31.6 लाख टन चीनी तैयार की गई थी। इस्मा का दूसरा अनुमान अगले महीने आएगा। सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य – महाराष्ट्र में 15 जनवरी 55.44 प्रतिशत कमी के साथ 25.5 लाख टन चीनी उत्पादन हुआ था। पिछले साल इसी दौरान वहां मिलों ने 57.2 लाख टन चीनी तैयार की थी। प्रदेश में इस बार 15 जनवरी को 139 चीनी मिलें गन्ने की पेराई कर रही थीं। पिछले साल इस समय 189 मिलें चल रही थीं।

दूसरे सबसे बड़े उत्पादक उत्तर प्रदेश में उत्पादन स्तर सुधारा है। प्रदेश में पिछले साल इस समय तक 41.9 लाख टन की तुलना में इस बार उत्पादन 43.7 लाख टन बताया गया है। वहां 119 चीनी मिलें परिचालन में हैं और अभी औसत चीनी पड़ता 10.83 प्रतिशत बताया जा रहा है।

देश के तीसरे सबसे बड़े चीनी उत्पादक राज्य कर्नाटक में चीनी उत्पादन एक साल पहले से 18.16 प्रतिशत कम था। प्रदेश की मिलों ने इस अवधि में 21.9 लाख टन चीनी का उत्पादन किया था जबकि पिछले साल इस समय का स्तर 26.7 लाख टन था। आंकड़ों के अनुसार, चालू वित्त वर्ष में 15 जनवरी तक गुजरात में चीनी उत्पादन 3,72,000 टन, बिहार 3,30,000 टन, पंजाब 2,05,000 टन, हरियाणा 2,00,000 टन, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना 1,85,000 टन, उत्तराखंड 1,52,000 टन, तमिलनाडु 1,50,000 टन टन और मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में 1,63,000 टन का था।