CM योगी ने दया आदेश, फरवरी में 2 दिन मनाया जायेगा गुड़ महोत्सव

DE21 GUR
Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on google
Share on print

Source : JNN | 16 Jan, 2021 | 10:55 PM

State Gur Mahotsav 2021 इस बार फरवरी के दूसरे सप्ताह में लखनऊ में राज्य गुड़ महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। हालांकि, इसके लिए तिथि निर्धारित की गई है। इसके लिए शुक्रवार को परामर्शदात्री समिति की बैठक आयोजित की गई। जिसमें 2021 के आयोजन के उद्देश्य व कार्यक्रम की रूपरेखा पर विस्तारपूर्वक चर्चा हुई। गुड़ महोत्सव में गुड़ एंव गुड़ के सह-उत्पादों व औषधीय लाभों के प्रति जन-जागरूकता का प्रसार किया जाएगा। राज्य गुड़ महोत्सव 2021 में कृषि से जुड़े सभी विभागों के स्टाल महोत्सव में लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री स्वयं इस दो दिवसीय गुड़ महोत्सव का शुभारंभ करेंगे। इसमें प्रदेश भर के किसान अपने द्वारा तैयार गुड़ व उसके सह-उत्पाद लेकर पहुंचेंगे। मेरठ से भी इसमें गन्ना किसानों की सहभागिता की जाएगी।

पिछले वर्ष स्थगित हुआ था गुड़ महोत्सव

उप गन्ना आयुक्त मेरठ राजेश मिश्र ने बताया कि बैठक में गुड़ महोत्सव, 2021 के आयोजन के उद्देश्य एवं कार्यक्रम की रूपरेखा सहित समस्त आयोजन समितियों यथा परामर्शदात्री समिति, आयोजन समिति, वित्त समिति, प्रदर्शनी एवं पंडाल समिति, प्रचार एवं साहित्य व्यवस्था समिति, स्वागत समिति व परिवहन समिति आदि के दायित्वों पर विस्तृत रूप से चर्चा हुई। गत वर्ष गुड़ महोत्सव के आयोजन को कोविड 19 एवं अन्य प्रशासकीय कारणों से स्थगित कर दिया गया था।

ADVERTISEMENT

गुड़ की गुणवत्ता सह उत्पादों के बारे में प्रचारप्रसार

उप गन्ना आयुक्त राजेश मिश्र ने गुड़ महोत्सव के आयोजन के उद्देश्यों के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया गया कि इस आयोजन का उद्देश्य गुड़ उत्पादकों को उत्तम गुणवत्ता के गुड़ तथा उसके सह-उत्पाद बनाने हेतु प्रेरित करना एवं गुड़ एवं गुड़ के सह-उत्पादों तथा गुड़ के औषधीय लाभों के प्रति जन-जागरूकता का प्रसार करना है।

कृषि संबंधित विभागों के लगेंगे स्टाल

राज्य गुड़ महोत्सव 2021 के आयोजन से संबंधित परामर्शदात्री समिति की बैठक में उप्र शासन द्वारा नामित सभी विभागों के अधिकारियों को उनको सौंपे गयए दायित्वों के अनुसार कार्य करने हेतु निर्देशित किया गया। जिससे इस आयोजन को सफल बनाया जा सके। बैठक के दौरान महोत्सव की रूप रेखा पर भी विस्तृत चर्चा हुई। परामर्शदात्री समिति में उप्र शासन द्वारा नामित विभागों में गन्ना विकास विभाग, गन्ना किसान संस्थान, सूचना विभाग, परिवहन विभाग, भारतीय गन्ना अनुसंधान संस्थान, पुलिस विभाग, जिला प्रशासन, सीआइआइ आदि विभागों के प्रतिनिधियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on google
Share on print